हरियाणा में 2 दिन की रहेगी राहुल गांधी की खेती बचाओ यात्रा #KhetiBachaoYatra

98

 दिल्ली ब्रेकिंग

Image From Twitter

हरियाणा में 2 दिन की रहेगी राहुल गांधी की खेती बचाओ यात्रा

6 अक्टूबर को पेहोवा  से शुरू होकर 7 अक्टूबर को करनाल में सम्पन्न हो जाएगी राहुल गांधी की खेती बचाओ यात्रा

*बैठक के बाद कांग्रेस नेता किरण चौधरी का बयान*

राहुल गांधी की यात्रा 2 दिन की रहेगी

यात्रा का रूट फाइनल कर लिया गया है

आज शाम 5:00 बजे भी कुरूक्षेत्र में बैठक होगी

6-7 तारीख की यात्रा राहुल गांधी की रहेगी

पंजाब बॉर्डर से पिहोवा में यात्रा एंटर करेगी

उसके बाद कुरुक्षेत्र में यात्रा जाएगी सुबह पिपली ,नीलोखेड़ी और करनाल में यात्रा खत्म जाएगी 

गृहमंत्री कल तक तो घुसने न देने की बात कहते थे ,अब उनके सुर बदल गए

हमारे देश में प्रजातंत्र है

तीन काले कानून किसान को बर्बाद करेंगे

ट्रैक्टर रैली निकलेगी किसानों के मुद्दे होंगे

—————-

*हरियाणा कांग्रेस प्रभारी विवेक बंसल का बैठक के बाद बयान*

राहुल गांधी की खेती बचाओ यात्रा पर बैठक में चर्चा की

राहुल गांधी लगातार तीन खेती कानून का विरोध कर रहे हैं

आज से पंजाब में किसान यात्रा शुरू की है 6 तारीख से यात्रा हरियाणा में आएगी

हरियाणा में 6 और 7 तारीख को यात्रा रहेगी

किसानों के लिए लड़ाई मील का पत्थर साबित हो गया

———–

*कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा का बयान*

पंजाब सीमा सै एंट्री करेंगे राहुल गांधी

*हरियाणा पंजाब बॉर्डर से देवीगढ़ बॉर्डर से रिसीव करेंगें*

ट्रैक्टरों के काफिले के साथ, और पब्लिक मीटिंग होगी

उसके बाद कुरुक्षेत्र में यात्रा जाएगी, पीपली मंडी जाएगी

रात को कुरूक्षेत्र में रुकेंगे ,सुबह पीपली फिर नीलोखेड़ी और फिर करनाल जाएंगे

राहुल गांधी ने  किसान मजदूर श्रमिक इन सभी के मुद्दे  उठाए हैं

फिल्ड में जाकर लोगों की बात सुनना उनका दर्द साझा करना राहुल गांधी जी करते हैं

कल राहुल गांधी प्रियंका गांधी ने हाथरस में पीड़ित परिवार का दर्द मानता

अब राहुल गांधी किसानों की बात सुनेंगे

 कल राहुल गांधी ने हाथरस में पीड़ित परिवार का दुख दर्द बांटा

*नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा का बयान*

कृषि कानूनों के खिलाफ राहुल गांधी किसान यात्रा कर रहे हैं

राज्यसभा में जबरदस्ती बिल पास किया है

किसानों के अहित में है यह बिल 

उसी के विरोध में राहुल गांधी आ रहे हैं

किसानों की आवाज उठाने के लिए आ रहे हैं