पानीपत की 22 हजार किशोरियों को बांटे जाएंगे 1.80 लाख सैनेटरी पैड

229

पानीपत स्वास्थ्य विभाग मासिक धर्म स्वच्छता योजना के तहत जिले की 10 से 19 साल तक की 22 हजार किशोरियों को 1.80 लाख सैनेटरी पैड बांटेगा। जनवरी के साथ ही सैनेटरी पैड का वितरण शुरू होगा। आशा वर्कर खंड स्तर पर घर-घर जाकर सैनेटरी पैड का वितरण करने के साथ पीरियड के दौरान सावधानी के लिए जागरूक करेंगी। इसके अलावा पीरियड को लेकर समाज में फैली भ्रांतियों को भी दूर करेंगी। सैनेटरी पैड वितरण के लिए आशा वर्करों को प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी।

968 आशा वर्करा बांटेंगी पैड
नाेडल अधिकारी डाॅ. ललित वर्मा ने बताया कि जिले की करीब 986 आशा वर्करों का सहयाेग लिया जाएगा। इस काम के लिए उन्हें प्रोत्साहन राशि भी मिलेगी। हर महीने पैड दिए जाएंगे। कोविड-19 की वजह से लड़कियों को एक साथ इकट्ठा न करके गांव-गांव जाकर डोर टू डोर पहले तो लड़कियों को मासिक धर्म स्वच्छता के प्रति अवेयर करेंगी फिर पैड का पैकेट बांटेंगी।

एक पैकेट में हाेंगे 6 पैड
ग्रामीण लड़कियों को 6 रुपए का एक पैकेट दिया जाएगा, जिसमें 6 पैड हाेंगे। आशा को प्रोत्साहन राशि के रूप में हर पैकेट बांटने पर 1 रुपया मिलेगा और 5 रुपए स्वास्थ्य विभाग काे जाएंगे। महीने में एक पैकेट आशा अपने पास रख सकेगी।

पीरियड में अस्वच्छता से यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन का खतरा
स्त्री राेग विशेषज्ञ डाॅ. सुमन बताती है कि हर लड़की को यह समझने की जरूरत है कि अगर वो मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता का सही से ध्यान नहीं रखती तो किस तरह की बीमारियों का शिकार हो सकती है। इससे लड़कियां खुद हाईजीन को लेकर अवेयर हो पाएंगी। स्वच्छता का ध्यान न रखने की वजह से यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन हो सकता है और अगर ध्यान न दिया जाए तो इस इंफेक्शन से किडनी तक डैमेज हो सकती है। यूटीआई और रिप्रॉडक्टिव ट्रैक्ट इंफेक्शन की वजह से सर्वाइकल कैंसर का खतरा भी कई गुना बढ़ जाता है।