टैक्स ब्रांच में दाे पार्षदों की फाइलें गायब, स्टाफ से हुई तीखी बहस, जेसी बोलीं-पार्षदों और आम आदमी की ब्रांच में नो-एंट्री

176

प्राॅपर्टी टैक्स ब्रांच में अभी तक सिस्टम में सुधार नहीं हाे पाया है। लोगों का आरोप है कि ब्रांच में बैठे कर्मचारी कार्य के नाम पर लाेगाें के साथ अभद्र व्यवहार कर रहे हैं। ब्रांच से रिकाॅर्ड गायब हाे रहा है। दाे पार्षदाें की टैक्स संबंधित फाइलें न मिलने से शुक्रवार काे खूब हंगामा हुआ। पार्षद प्रतिनिधि प्रवीन केडिया, पार्षद कविता केड़िया ने माैके पर माैजूद स्टाफ काे खूब खरी-खरी सुनाई। पार्षद ने अपने पति से बदतमीजी करने का आराेप लगाया और कहा कि आप लाेगाें ने फाइल क्याें गुम कर दी मुझे अभी ढूंढ़कर दाे।

माैके पर एक व्यक्ति ने भी हंगामा मचाया। उसने कहा कि तीन दिन से मैं चक्कर काट रहा हूं। यहां कर्मचारी पैसे मांग रहे हैं। फिर भी काम नहीं हाे रहा। प्रतिनिधि प्रवीन केडिया व हेड क्लर्क सत्यवान मलिक के बीच कहासुनी हो गई। इस पर कविता केडिया भड़क गईं और उन्होंने हेड क्लर्क को उनके पति के साथ तमीज से बात करने की नसीहत दी।

कविता केडिया ने हेड क्लर्क को 10 मिनट में फाइल ढूंढ़कर देने के लिए कहा तो हेड क्लर्क ने कह दिया कि यहां समय की पाबंदी नहीं है। फिर सभी निकलकर बाहर आ गए। थोड़ी देर में संयुक्त आयुक्त(जेसी) शालिनी चेतल, डीएमसी प्रदीप हुड्डा, ईओ अमन ढांडा भी शाखा में आ गए। संयुक्त आयुक्त ने मामले को शांत करते हुए भविष्य में पार्षदों सहित सभी शहरवासियाें की शाखा में एंट्री पर पाबंदी लगा दी। उन्हाेंने कहा कि अब सिंगल विंडाे के जरिए ही फाइल जाएगी।

हेड क्लर्क फाइल 3 माह से दराज में रखे बैठा है : केडिया

पार्षद कविता केडिया ने कहा कि निगम में सबसे ज्यादा फाइलें वार्ड- 2 से आती हैं। सबका टैक्स भरा गया है। पारिजात चौक स्थित दुकान की प्रॉपर्टी आईडी बनाकर टैक्स भरवाना था। फाइल नंबर 10 थी, जोकि स्पेशल शिविर में लगाई थी, मगर उस फाइल का कुछ नहीं हुआ। हेड क्लर्क एक फाइल तीन महीने से दराज में रखे बैठा है। पार्षद ने मेयर से फोन पर बात कर मामले से अवगत करवाया। मेयर ने ईओ व डीएमसी से मिलने की बात कही।

कर्मचारी पैसे ऐंठने को एक बार में नहीं करते काम: गोयल

अर्बन एस्टेट-2 वासी अजय गोयल ने बताया कि उन्होंने आईडी में नाम दर्ज करवाने की तत्काल में फाइल लगाई। उन्होंने आरोप लगाया कि कर्मचारियों ने तय किया हुआ है कि किसी भी आदमी का एक बार में काम न करो, नहीं तो फ्री में काम करना पड़ेगा। ये सब पैसे ऐंठने के तरीके हैं। कर्मचारी अपनी सीट पर ही नहीं मिलते हैं। कोई साढ़े 3 बजे निकल जाता तो कोई 4 बजे। कर्मचारियों की हाजिरी चेक करने का कोई सिस्टम नहीं है। सिटीजन चार्टर लागू होना चाहिए।

दो महीने से पार्षद खन्ना की फाइल गायब, 2 दिन से ढूंढ़ रहे

वार्ड-6 के पार्षद डॉ. उमेद खन्ना ने कहा कि प्रॉपर्टी टैक्स में गलती सुधारने के लिए दो महीने पहले फाइल लगाई थी। उनकी भी पिछले दाे दिन से फाइल नहीं मिली। वे खुद चक्कर लगा रहे हैं। जब हंगामा मचा तो अधिकारियाें ने कहा कि आपकी फाइल अभी तक प्रोसेस में है। उन्हाेंने कहा कि शुक्रवार को फाइल पर साइन करके भेज दी गई है। पार्षद डॉ. खन्ना ने बताया कि प्रॉपर्टी टैक्स ब्रांच में सुधार की बेहद जरूरत है।

तीन दिन से फाइल नहीं निकली

सेक्टर 14 वासी व्यक्ति अमित ने विकास नगर प्लाॅट की फाइल के लिए हंगामा मचाया। कहा, 11 सितंबर काे फाइल दी थी। तीन दिन से चक्कर लगा रहा हूं। इन लाेगाें को पैसे चाहिए हाथाें-हाथ कर देंगे। कर्मचारी ने कहा कि दूसरे काम के लिए चला गया था।

टैक्स ब्रांच में सात-आठ नए क्लर्क लगाए हैं। जल्द ही कर्मचारियाें का फेरबदल किया जाएगा। ठीक व्यवहार न करने वाले स्टाफ काे यहां से बदल दिया जाएगा। पैसे मांगने व भ्रष्टाचार के आरोप निराधार हैं। अशाेक कुमार गर्ग, कमिश्नर, नगर निगम।