गर्भपात और डीएनए टेस्ट के लिए अस्पताल में दाखिल गैंगरेप पीड़ित महिला लापता

158

अदालत के आदेश के बाद गर्भपात व डीएनए टेस्ट के लिए नागरिक अस्पताल में एक दिन पूर्व भर्ती हुई महिला मंगलवार को संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गई। परिजनों ने महिला के अपहरण की आशंका जताते हुए पुलिस में शिकायत दी है। पुलिस ने 4 लोगों के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज कर महिला की तलाश शुरू कर दी। पीड़िता प्रसूति कक्ष से करीब डेढ़ सौ मीटर दूर दिन में 11 बजे ट्रॉमा सेंटर में दिए गए अपने ब्लड सैंपल की रिपोर्ट लेंने गई थी, जो वापस नहीं लौटी।

इसके बाद परिजनों व अस्पताल कर्मियों ने अस्पताल का काैना-काैना छान मारा, लेकिन महिला का कोई पता नहीं चला। घटना के बाद अस्पताल प्रबंधन व परिजनों ने मामले की सूचना कुंजपुरा पुलिस को दी। सूचना पाकर कुंजपुरा थाने के सहायक उप निरीक्षक बहादुर सिंह तुरंत मौके पर पहुंचे। इसके बाद पीड़िता के परिजन जांच अधिकारी के साथ सिविल लाइन पुलिस स्टेशन में गए।

परिजनों ने कुछ लोगों के खिलाफ महिला का अपहरण किए जाने का मामला दर्ज कराया। शिकायत पर पुलिस ने दुष्कर्म के आरोपी दो सगे भाइयों दीपक व संदीप के अलावा पवन वासी नेवल और कथित चिकित्सक गंगा के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज कर लापता महिला व आरोपियों की तलाश शुरू कर दी।

महिला का मोबाइल सर्विलांस पर लगाया

पुलिस ने कुछ संदिग्ध लोगों के मोबाइल भी सर्विलांस पर लिए, लेकिन देर शाम तक महिला का कोई अता पता नहीं चल सका। दिनदहाड़े हुई इस घटना के बाद अस्पताल परिसर की सुरक्षा व्यवस्था की हकीकत भी उजागर हो गई। गाैर हाे कि कथित दुष्कर्म के बाद गर्भवती हुई पीड़ित महिला को अदालत के आदेश पर गर्भपात व डीएनए सैंपल लेने के लिए पुलिस व परिजनों ने सोमवार को जिला नागरिक अस्पताल करनाल के प्रसूति कक्ष में भर्ती करवाया था। इसी बीच सिविल सर्जन द्वारा चिकित्सकों का बोर्ड गठन कर आगामी प्रक्रिया शुरू की गई थी। इस प्रक्रिया में मंगलवार सुबह महिला के ब्लड सैंपल लिए गए। इस ब्लड सैंपल की रिपोर्ट लेने के लिए ही महिला प्रसूति कक्ष से ट्रॉमा सेंटर तक गई थी। हालांकि महिला की ननंद अस्पताल में प्रसूति कक्ष के बाहर मौजूद थी, लेकिन महिला अकेली ही ब्लड सैंपल की रिपोर्ट लेने गई।

कार्रवाई : पुलिस आसपास के सीसीटीवी कैमरे खंगालने में लगी

इस घटना के बाद अस्पताल प्रशासन व पीड़िता के परिजनाें के हाथ पांव फूल गए। इसके बाद अपहरण का मामला दर्ज करने के बाद पुलिस अस्पताल में पहुंची। बताया गया कि पुलिस अस्पताल व आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालने के प्रयास में लगी हुई है। पुलिस का कहना है कि महिला के बरामद होने के बाद ही मामले की हकीकत का पता चलेगा कि महिला का अपहरण किया गया या उसके लापता होने के अन्य कोई कारण रहे । थाना प्रभारी जगबीर सिंह ने बताया कि मामला दर्ज कर महिला की तलाश शुरू कर दी है। सीसीटीवी फुटेज भी खंगाली जा रही हैं।

जून में भी लापता हुई थी महिला, इसी दौरान हुआ था दुष्कर्म

कुंजपुरा थाना के तहत एक गांव निवासी 26 वर्षीय विवाहिता विगत 20 जून को संदिग्ध परिस्थितियों में घर से लापता हो गई थी। परिजनों ने महिला की काफी तलाश की, लेकिन उसका कोई अता-पता नहीं चला तो अगले दिन 21 जून को महिला के लापता होने की शिकायत पुलिस में दे दी गई। पुलिस ने इस शिकायत पर महिला की गुमशुदगी का मामला दर्ज कर उसे तलाश करने के प्रयास शुरू कर दिए। मामले में नया मोड़ उस वक्त आया जब करीब ढाई माह बाद महिला वापस घर लौटी और गांव के ही दो सगे भाइयों पर अपहरण कर दुष्कर्म किए जाने का आरोप लगाया। इसके साथ ही यह भी खुलासा किया कि वह दुष्कर्म के दौरान वह गर्भवती हो गई। महिला ने इस मामले में गांव के ही एक कथित चिकित्सक पर भी उसे दवा में कोई नशीली वस्तु मिलाकर देने का आरोप लगाया था। थाना प्रभारी मुनीष कुमार ने महिला के शिकायत पर तीनों आरोपियों को मामले में नामजद करते हुए दोनों सगे भाइयों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म, धमकी देने व कथित चिकित्सक के खिलाफ दवा में नशीली वस्तु मिलाकर देने के आरोप में मामला दर्ज कर छानबीन की जा रही है।